आर्थिक अपराध शाखा कुरुक्षेत्र ने दिल्ली से गिरफ्तार किये छ: ठग

Loading


गुजरात, महाराष्ट्र और तामिलनाडु सहित देशभर में सैंकड़ों लोगों को ठगा 

 कुरुक्षेत्र :  9 मार्च : (राकेश शर्मा) : 

 आर्थिक अपराध शाखा कुरुक्षेत्र ने लोगों को आनलाइन फसा कर उनके पैसे ठगने वाले एक अंतर्राज्यीय ठग गिरोह का पर्दाफाश किया है। पुलिस ने इस गिरोह के छ: ठगों को दिल्ली में विभिन्न स्थानों से छापेमारी कर गिरफ्तार किया है। पुलिस पूछताछ में इन ठगों ने देश भर में ठगी की वारदातों को अंजाम देने की बात कबूल की हैं। गिरोह के इन सदस्यों देशभर में लगभग 150 लोगों को इस तरह करोड़ों रुपये का चुना लगाने की बात स्वीकार की है। पुलिस पुछताछ के दौरान कई बड़ी वारदातों का खुल्लासा होने की संभावना है। 
इस बारे में आर्थिक अपराध शाखा कुरुक्षेत्र में आयोजित पत्रकार वार्ता में पत्रकारों को जानकारी देते हुये उप पुलिस अधीक्षक शहर थानेसर नुपुर बिश्रोई ने बताया कि पिछले काफी समय से जिला पुलिस को लोगों को फोन कर उन्हें लोन दिलवाने के नाम पर, कभी टावर लगवाने के नाम पर तो कभी किसी की लाटरी निकलने के नाम पर उन्हें पैसे देने का झांसा देकर पैसे ठगने के मामले सामने आ रहे थे। इसी संबंध में कुरुक्षेत्र पुलिस को थाना शहर थानेसर में जगजीत सिंह पुत्र अमरीक सिंह वासी वासी विष्णु कालोनी कुरुक्षेत्र ने दिनांक 16.07.16 को दी अपनी शिकायत में बताया कि 15 अगस्त 2015 को उसे दिल्ली से सचिन, रोहित और संदीप चौहान नामक युवकों ने फोन किये। जिन्होंने उसे 8 लाख रुपये का लोन दिलवाने का झांसा दिया। शिकायतकर्ता उनकी बातों में आ गया। जिस पर इन लोगों ने शिकायतकर्ता को उनके खाते में पैसे डलवाने की बात कही। शिकायतकर्ता जैसे-जैसे उनके खाते में पैसे डलवाता गया वैसे-वैसे आरोपियों ने उसे और अधिक राशि लोन के रूप में दिलवाने का झांसा दिया। इस तरह इन आरोपियों ने शिकायतकर्ता ने लोन दिलवाने के नाम पर लगभग साढे 23 लाख रुपये की चपत लगाई। पुलिस ने इस संबंध में जगजीत सिंह की शिकायत पर थाना शहर थानेसर में मामला दर्ज कर जांच आरंभ कर दी। बाद में पुलिस अधीक्षक कुरुक्षेत्र के निर्देशानुसार यह मामला जांच के लिये आर्थिक अपराध शाखा कुरुक्षेत्र को सौंप दिया गया। जिस पर कार्रवाई करते हुये आर्थिक अपराध शाखा कुरुक्षेत्र की टीम ने मामले में आरोपियों की तलाश आरंभ की। 
इस संबंध में कार्रवाई करते हुये आर्थिक अपराध शाखा प्रबंधक उप निरीक्षक सीता राम, उप निरीक्षक राजेश्वर, महेश, सहायक उप निरीक्षक रामप्रकाश, सहायक उप निरीक्षक रमेश व महेंद्र, मुख्य सिपाही मलकीत, विद्युत भुषण व सिपाही सुरेंद्र की टीम ने दिल्ली में कई स्थानों पर छापेमारी कर शास्त्री नगर दिल्ली से रामकुमार पुत्र विजय सिंह वासी जे.जे. कालोनी पाकेट-2 द्वारिका सैक्टर 16 ए ककरोला दक्षिण-पश्चिम दिल्ली को गिरफ्तार किया। जिससे पुछताछ के आधार पर पुलिस ने इसी गिरोह के उसके अन्य साथी राहुल पुत्र अशोक कुमार वासी पिपरोली, जिला इटावा हाल वासी शास्त्री नगर नजदीक नाग मंदिर रोहिला दिल्ली, विजय पुत्र नंद राम वासी महाराजपुर मध्य प्रदेश हाल किरायेदार सैक्टर 16 रोहिणी दिल्ली, कन्हैया पुत्र नरेश ज्वालापुरी, नागलोई दिल्ली व दिनेश पुत्र धीरेंद्र सिंह पिथोरगढ जिला चम्पावत उत्तराखंड हाल किरायेदार महाबीर नगर तिलक नगर दिल्ली को रोहिणी सैक्टर-7 दिल्ली से और अभिषेक पुत्र आनंद वासी गांव गुमटी रावतपुर उत्तर प्रदेश हाल किरायेदार सुभद्रा कालोनी दिल्ली को शास्त्री नगर दिल्ली से गिरफ्तार किया। 
पुलिस पुछताछ के दौरान इन सभी ने स्वीकार किया कि ये देश भर में आन लाईन ठगी का धंधा चला रहे हैं। मुख्य रूप से पंजाब, हरियाणा, गुजरात, तामिलनाडु, महाराष्ट्र व मध्य प्रदेश में इन्होंने ठगी की लगभग 150  वारदातों को अंजाम दिया है। उन्होंने बताया कि ये लोग फोन करके लोगों को किसी भी तरह का लोन देने या टावर लगवाने या फिर अन्य किसी भी तरह का लाटरी या गाडी आदि निकलने के प्रलोभन में फसाकर उन्हें पैसे देने का लालच देकर अपना शिकार बनाते थे और फिर शिकार से अपने फर्जी पहचान पत्रों के आधार पर खुलवाये गये खातों में पैसे डालने को कहते हैं और उनसे पैसे ऐंठते थे। आरोपियों ने ये भी स्वीकार किया कि ये इस तरह की ठगी की वारदातों को अंजाम देने के लिये अक्सर फर्जी पहचान पत्रों के आधार पर लिये गये मोबाइल सिमों का ही प्रयोग करते थे और कुछ ही समय बाद सिम बंद कर देते थे।  

उप पुलिस अधीक्षक ने बताया कि इन आरोपियों ने दिल्ली में ही अलग-अलग नाम से काल सेंटर खोले हुये हैं। जिनमें से आरोपी विजय ने वी.एस. कैपीटल  के नाम से सैक्टर-7 रोहिणी में और आरोपी राहुल ने ए.के.एस. इंटरप्राइजिज के नाम से शास्त्री नगर दिल्ली में काल सेंटर खोला हुआ है। उन्होंने बताया कि इन सभी को आज मुख्य जिला सत्र न्यायाधीश श्रीमति नताशा शर्मा की अदालत में पेश कर माननीय अदालत से उन्हें 6 दिन के पुलिस रिमांड पर लाया गया है। पुलिस पुछताछ में अभी और भी कई वारदातों का खुल्लासा होने की संभावना है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

60994

+

Visitors