सीजेएम नेहा नौहरिया ने 10 महिला प्रशिक्षणार्थियों को प्रदान किए ऋण स्वीकृति पत्र

Loading

 
कुरुक्षेत्र 9 मार्च ;—— अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष्य पर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव एवं सीजेएम नेहा नौहरयिा ने पंजाब नेश्रल बैंक ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान की तरफ से महिला सम्मान समारोह में 10 महिला प्रशिक्षणार्थियों को ऋण स्वीकृति पत्र प्रदान किए। बुधवार को अंतर्राष्ट्री महिला दिवस के उपलक्ष्य पर आयोजित महिला सम्मान समारोह में बोलते हुए सीजेएम नेहा नौहरिया ने महिलाओं को महिला सशक्तिकरण व महिलाओं के लिए कानूनी मदद के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए कहा कि आधुनिक समय में हर महिला आत्मनिर्भर व अपने अधिकारों का प्रयोग करते हुए समाज में अपनी ख्याति बना सकती है। एजीएम मंडल कार्यालय पीएनबी के निदेशक अजय परमार ने मातृ श्क्ति को नमन करते हुए कहा कि आज हर क्षेत्र में महिलाओं ने अपना नाम कमाया है। पीएनबी बैंक में महिलाओं के लिए विशेष बचत खाता खोला जाता है, जिसके अंतगर्त महिलाओं को विशेष छूट प्रदान की जाती है। एलडीएम प्रवीण कुमार वालिया ने महिलाओं को बैंक ऋण के बारे में विस्तृत जानकारी दी। आरसेटी निदेशक धर्मपाल मंच्छाल ने मंच का संचालन करते हुए कहा कि अब तक 848 महिलाओं को प्रशिक्षण प्रदान किया जा चुका है।
=====================================
अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर 10 स्वयं सहायता समुहों को प्रदान किए ऋण
कुरुक्षेत्र 8 मार्च – अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष्य पर हरियाणा राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत चलाए जा रहे स्वयं सहायता समुह की एक बैठक अतिरिक्त उपायुक्त कार्यालय में आयोजित की गई। इस बैठक में 10 स्वयं सहायता समुहों का एचएसआरएलएम स्कीम के तहत ऋण प्रदान किए गए। इससे 120 गरीब परिवारों को लाभ मिलेगा। यह जानकारी देते हुए स्कीम के संचालक मंदीप सिंह ने कहा कि समुह की महिलाओं को एकजूट रहकर आगे बढऩे की जरुरत है। इस कार्यक्रम एलडीएम पीके वालिया ने भी अपने विचार व्यक्त किए।
====================
जिला कारागार में भी मनाया गया अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस
कुरुक्षेत्र : मार्च – अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर जिला कारागार में बंदियों के लिए एक सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इन बंदियों को जिला सूचना एवं सम्पर्क विभाग के कलाकारों ने सामाजिक कूरीतियों को लेकर तथा देशभक्ति गीतों को प्रस्तुत कर सभी को खूब मनोरंजन किया। इस कार्यक्रम का शुभारम्भ एसपी जेल सत्यावान ने किया। बुधवार को जिला सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग के कलाकार दिलावर शर्मा, महावीर सिंह, राजकुमार शर्मा, राजकुमार ने गीत प्रस्तुत किए। उन्होंने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओं, स्वच्छता मिशन इत्यादी विषयों पर जिक्र किया। इस मौके पर  एएसपी मोहन लाल, डीएसपी जेल बिमला, डीएसपी जेल सुभाष चंद्र, डीआई विजय कुमार सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।===========================
देश में खादी की आय में हुई 34 प्रतिशत वृद्धि:सक्सेना
खादी को हर घर से जोडने का आयोग का लक्ष्य,महिलाओं को उनके घर पर ही रोजगार प्रदान करता है खादी, हर खादी से जुडे बुनकर और कत्तिन को प्रतिदिन मिले कम से कम 250 रुपए, खादी को बढ़ावा देने के लिए बड़े-बड़े विभागों से किया जा रहा है एग्रीमेंट
कुरुक्षेत्र ; 9  मार्च ; राकेश शर्मा /आरके शर्मा ;—–खादी ग्रामोद्योग आयोग, सूक्षम लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्रालय भारत सरकार के चेयरमैन विनय कुमार सक्सेना ने कहा कि देश में खादी के क्षेत्र की आय में 34 प्रतिशत वृद्धि हुई है जबकि पिछले 10 सालों में यह वृद्धि 7 प्रतिशत का आंकडा पार नहीं कर सकी। खादी के माध्यम से लोगों की आय बढ़ाने के लिए खादी आयोग द्वारा रेलवे, डाक, पुलिस, व अन्य कम्पनियों के साथ समझौते किये जा रहे है। खादी महिलाओं को उनके घर पर ही रोजगार प्रदान करता है। खादी आयोग का मकसद है कि खादी से जुडे हर बुनकर एवं कत्तिन को प्रतिदिन 250 रुपए की आय हो।  

चेयरमैन विनय कुमार बुधवार को कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के गेस्ट हाऊस में पत्रकारों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि पिछले 10 सालों में खादी की स्थिति काफी दयामय हो गई थी। खादी की आय मात्र 2.5 प्रतिशत से 7 प्रतिशत तक ही रही। पंरतु सरकार के प्रयासों से वर्ष 2015-16 में यह आय बढकर 34 प्रतिशत तक पहुंच गई। इस वर्ष खादी में 1070 करोड़ रुपए की प्रोडेक्शन हुई जिसकी 1510 करोड़ रुपए की बिक्री हुई। खादी संस्थाओं को मंत्रालय द्वारा खादी सुधार एवं विकास कार्यक्रम के तहत 30 संस्थाओं का चयन किया गया है। इसके लिए संस्थाओं को सशक्त बनाने के लिए नए चरखे, नए करघे उपलब्ध करवाने, कत्तिन एवं बुनकरों को प्रशिक्षण देने, खादी भंडारों का नवीनीकरण करने, संस्थाओं में कम्पयूटर स्थापित करने तथा संस्थाओं में उच्च कोटी कच्चा माल उपलब्ध करवाने के लिए 75 लाख से 1 करोड़ 5 लाख रुपए तक का सहयोग किया जा रहा है। सरकार के इन प्रयासों से खादी के माध्यम से स्वयं रोजगार को बढावा मिलेगा। उन्होंने बताया कि देश में प्रतिवर्ष 900 करोड़  रुपए का उत्पादन किया जा रहा है। जिसके माध्यम से करीब 12.50 लाख कारीगरों को रोजगार के साधन उपलब्ध हो रहे है। इसके अतिरिक्त ग्रामीण उद्योगिक क्षेत्र में भी करीब 27 हजार करोड़ रुपए मूल्य के उत्पादों का उत्पादन प्रतिवर्ष किया जा रहा है। जिससे करीब 125 लाख कारीगरों को रोजगार के अवसर मिल रहे है। 
सक्सेना ने बताया कि देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा स्वदेशी को बढ़ाने के प्रयास किए जा रहे है। इन प्रयासों के फलस्वरूप लोगों का खादी के प्रति रूझान बढ रहा है। खादी मंत्रालय द्वारा ओएनजीसी के साथ 52 करोड़ रुपए के खादी के गिफट लेने का एग्रीमेंट हुआ है। इसी प्रकार स्वास्थ्य मंत्रालय भारत सरकार द्वारा भी 150 करोड़ रुपए के खादी का उत्पादन लेने का एग्रीमेंट हो चुका है । इतना ही नहीं उत्तराखंड के सभी पोस्ट आफिसों में खादी की वर्दी देने का एग्रीमेंट हुआ है। इस एग्रीमेंट से खादी को करीब 1 करोड़ 50 लाख रुपए का लाभ मिलेगा। उन्होंने बताया की रेलवे ने भी अभी खादी की बैडसीट लेने के लिए 40 करोड़ रुपए का आर्डर दिया है। खादी को बढावा मिले तथा खादी का अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार हो इसके लिए उत्पादन और लागत के साधन खोजे जा रहे है। उन्होंने कहा कि खादी मंत्रालय द्वारा सभी बुनकरों को उनका मानदेय डीबीटी के माध्यम से दी जा रही है। 
उन्होंनेकहा कि हरियाणा में भी प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्र्रम का भी क्रियान्वयन किया जा रहा है ताकि बेरोजगारों को स्वयं का रोजगार स्थापित करने में मदद मिल सके। कार्यक्रम के अन्र्तगत वर्ष 2015-16 में प्रदेश में 30 करोड़ रुपए की मार्जिन मनी राशि का वितरण बैंकों द्वारा किया गया और वर्ष 2016-17 में 45 करोड़ 51 लाख रुपए मार्जन मनी देने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। उन्होंने कहा कि हरियाणा में रिवैप्पड स्फूर्ति कार्यक्रम के अन्र्तगत 9 नये कलस्टर लगाने का  प्रस्ताव तैयार किया गया है। इससे प्रदेश में खादी से जुडे कारीगरों को स्वयं रोजगार मिलेगा और उनकी आय में वृद्धि होगी। उन्होंने कहा कि हरियाणा में इस वर्ष 9 नई खादी संस्थाओं को पंजीकरण किया गया है। खादी और ग्रामोद्योग आयोग ने सहयोग नामक योजना का आरंंभ किया है जिसके अन्र्तगत कोई भी व्यक्ति संगठन अथवा संस्था उन कत्तिनों के लिए जिसके पास अभी भी कोई चरखा नहीं है, चरखा राशि 1350 रुपए दान कर सकता है इस कार्यक्रम के अन्र्तगत हरियाणा की 46 संस्थाओं ने 62 चरखे दान हेतू आयोग को भेजे है। उन्होंने कहा कि जेलों में भी खादी को बढ़ावा देने के प्रयास किए जा रहे है। प्रदेश में गुरूगा्रम की जेल में खादी का कार्यक्रम चलाया जा रहा है। 
खादी और ग्रामोद्योग आयोग के निदेशक वीके नागर ने बताया कि बुधवार को आयोग के अध्यक्ष विनय कुमार सक्सेना ने जिलें के लाडवा में स्थित शिवशक्ति हाथ कागज ईकाई का अवलोकन किया। इसके अतिरिक्त खादी ग्राम उद्योग संघ मिर्जापुर व कुरुक्षेत्र में स्थित कॉमन फैसिलिटी सैंटर,बुनाई केन्द्र, खादी शोरूम का अवलोकन किया व संस्था के नवनिर्मित कार्यालय भवन का उदघाटन भी किया। इस मौके पर संस्था के पदाधिकारी संजीव कुमार, अमित जैन,  सतपाल सैनी सहित जिला खादी ग्रामोद्योग के डीएम आरएस मेहरा उपस्थित थे। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

63536

+

Visitors