व्यापारी ने होटल की छत से कूद की आत्महत्या

Loading

 

जोधपुर  ; मार्च ; चन्द्रभान सोलंकी /अल्फ़ा न्यूज इंडिया ;—–साढ़े पांच करोड़ रुपए का माल सप्लाई करने के बाद भुगतान न मिलने और रिकवरी के लिए कम्पनी अधिकारियों के दबाव में आए एक व्यक्ति ने सरदारपुरा चिल्ड्रन पार्क के पास एक होटल की छत से कूद कर जान दे दी। सरदारपुरा थाने में कम्पनी अधिकारियों के खिलाफ आत्महत्या के लिए दुष्प्रेरित करने का मामला दर्ज किया गया है।थानाधिकारी भूपेन्द्रसिंह के अनुसार जयपुर में मालवीयनगर निवासी राजा चक्रवर्ती (57) पुत्र बीडी चक्रवर्ती जम्मू की एल्युमिनियम शीट बनाने वाली कम्पनी अल स्ट्रांग में राजस्थान के प्रभारी थे। कम्पनी के चार-पांच अधिकारियों और चक्रवर्ती के बीच गत 11 मार्च से होटल प्रतीक में मीटिंग चल रही थी। होली पर रविवार सुबह सभी नाश्ते के लिए होटल के कमरे से निकले। तभी राजा चक्रवती सीढि़यों से छत पर जा पहुंचे और नीचे कूद गए। कार से टकराने के बाद वो जमीन पर गिर गए। उनके शरीर से खून बहने लगा। उन्हें गम्भीर हालत में ऑटो रिक्शा से महात्मा गांधी अस्पताल लाया गया, जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।सूचना मिलने पर परिजन शाम को जोधपुर पहुंचे। मृतक के पुत्र सुशील शर्मा ने कंपनी अधिकारियों के खिलाफ आत्महत्या के लिए दुष्प्रेरित करने का मामला दर्ज कराया। पुलिस ने पोस्टमार्टम करवाने के बाद शव परिजन को सौंपा।

टमाटर से सडक हुई लाल
=============================================
भीलवाड़ा ; चन्द्रभान सोलंकी ;——– अजमेर मार्ग पर सुखाडिया सर्किल के निकट मंगलवार सुबह मोटरसाइकिल चालक को बचाने के प्रयास में टमाटर से भरा ट्रक पलट गया। दुर्घटना के बाद सडक पर टमाटर बिखर गए। इससे कुछ देर के लिए यातायात भी बाधित हो गया। सुभाषनगर थाना पुलिस मौके पर पहुंची। क्रेन मंगवाकर ट्रक को सीधा करवाया गया।जानकारी के अनुसार टमाटर से भरा ट्रक अहमदाबाद से दिल्ली जा रहा था। सुखाडिया सर्किल के निकट दुपहिया वाहन सवार को बचाने के प्रयास में ट्रक पलटी खा गया। इससे सडक पर टमाटर बिखर गए। वहीं ट्रक पलटी खाने से सर्किल को नुकसान पहुंचा। दुर्घटना के बाद आसपास के लोग दौड़कर आए केबिन में फंसे चालक को बाहर निकाल कर उसे महात्मा गांधी चिकित्सालय पहुंचाया। 
– =============================================     
*बहू ने प्रेमी संग माल श्वसुर की हत्या  की*
भीलवाडा ; चदंर भान सोलंकी ;—– जिले के   मांडल  थाना क्षेत्र मे  धूलखेड़ा में हुए गंगाराम के मर्डर का पुलिस  ने राजफाश करते हुए हत्या  के आरोप मे पुत्रवधू(बहू) व उसके प्रेमी को गिरफ्तार  कर लिया । धूलखेड़ा के पास मेजा बांध की नहर के नजदीक चार दिन पूर्व की गई हत्या के आरोपियों को मांडल थाना पुलिस ने मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने राजसमंद जिले की आमटे तहसील के किशनपुरा गांव निवासी गंगाराम पुत्र मूला गुर्जर (60) की हत्या के मामले में पुत्रवधु कमली व उसी गांव के रहने वाले उसके प्रेमी नारायण गुर्जर को गिरफ्तार किया है।
<——–अल्फ़ा न्यूज इंडिया जैसलमेर रिपोर्टर चन्द्रभानसोलन्की !!!!!!!!
सीओ चंचल मिश्रा ने मांडल थाने में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि गंगाराम का बेटा इंदौर में काम करता है। वह छह माह में एक बार ही गांव आता है। इस दरम्यान उसकी पुत्रवधु के गांव में ही रहने वाले नारायण से प्रेम प्रसंग हो गया। जिसकी भनक उसके ससुर गंगाराम को हो गई। गंगाराम दोनों की निगरानी रखने लगा इसी से क्षुब्ध होकर दोनों ने गंगाराम को रास्ते से हटाने की योजना बनाई। 10 मार्च को गंगाराम गुर्जर सामजिक आयोजन में गया जहा से फ्री होते ही नारायण गुर्जर ने अफिम दिलाने के बहाने अन्यत्र जगह कह कर धुलखेड़ा के समीप ले आया और रात्रि का मौका देख वारदात को अंजाम दे दिया।================================
——————-जैसलमेर विधायक के नाम एक पत्र ————————————-
विधायक महोदय 5 साल पूर्व राज्य में विपक्ष की सरकार ने आपकी आवाज नहीं सुनी | जनता के लिए इन 5 सालों में आपकी ही पार्टी ने आवाज नहीं सुनी या फिर आपकी आवाज नहीं निकली । आपके 10 साल के विधायक कार्यकाल में न जनस्वास्थ्य मिला और न ही सुरक्षा । स्कूलों व कॉलेज में स्टॉफ नहीं तो शिक्षा नहीं मिल रही बच्चों को । अस्पतालों में संसाधन धूल फांक रहे हैं लेकिन पर्याप्त डॉक्टर व स्टॉफ नहीं होने से जिले की जनता को स्वास्थ्य लाभ नहीं मिल रहा । सुरक्षा के लिए पुलिस की नफरी भी नहीं बढवा पाये । पानी व बिजली में भी उत्साहजनक परिणाम नहीं मिले । न 24 घंटे पानी मिला और न ही बिजली । बिजली हब बनना तो दूर, कंपनियां ही हताश हो गई । पर्यटन को पंख नहीं मिले । हवाई सेवा का लॉलीपोप चाटती रह गई जनता । उसका स्वाद भी खत्म हो गई । हवाई सेवा शुरू नहीं हुई । नहरी क्षेत्र में जमीन, मुरब्बे आवंटन के लिए इंतजार कर रही करीब 56 हजार फाईलों की धूल भी नहीं हटाई गई इन 10 सालों में । लोगों को मुरब्बों का आवंटन नहीं हुआ ।
जयपुर तो क्या शहरी सरकार में भी आपकी आवाज नहीं सुनी गई । हां, आयुक्त को बार—बार हटाने में जरूर सफल हुए । लेकिन सफाई व्यवस्था, पानी व्यवस्था सब चौपट हो रखी है शहर में जबकि भाजपा का बोर्ड है और उस पार्टी के विधायक । कॉलोनियों से करोड़ों बटोर लिए निकाय व यूआईटी ने लेकिन कॉलोनियां विकसित होना तो दूर, वहां पर प्लॉट आवंटियों को अपना प्लॉट ही नहीं नजर आ रहा ।
विधायक महोदय अगला वर्ष चुनाव है । समय कम है । क्या उपरोक्त कमियों की पूर्ति करवा पायेंगे आप अपनी सरकार में । अगले चुनावों में जनता के पास आपको जाने का मौका मिले तो संभवत: पूरी तैयारी के साथ जाना होगा । अगली बार विधायक बनने वालों उम्मीदवारों के सामने प्रश्नों की बौझारें होंगी ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

61504

+

Visitors