Loading

201820182018===नव वर्ष का अभिनंदन===201820182018  
वर्ष 2017 हुआ नौ दो ग्यारह, 
आया वर्ष मंगलमय 2018 !!
आओ मिलकर करें अभिनंदन, 
भाईचारे से करेंगे मनोरंजन !!
जातिपाति का भेद  भुलाओ, 
रिपुओं को भी गले लगाओ !!!


भ्रष्टाचारी,  बलात्कारी  का करो तृष्कार, 
ईमानदारी व् परिश्रम की करो  जयकार !!
देश भक्ति को बनाओ अपनी शक्ति, 
मिले शहादत तो सजदा करे जगती !!
दिल में प्यार हो और प्यार में खुमार हो, 
सच्चे दोस्त का घर में सदा इंतजार हो !!
माँ बहिन बेटी सब की अपनी ही जानों, 
बुजुर्गों में भी अपने मार्गदर्शक पहचानो !!


 बीता वक्त व् मौका आएगा नहीं हाथ,
पाप, अधर्म कभी जायेगा नहीं साथ !! 
छोटों को गले लगाओ, बड़ों की शरण में झुक जाओ ,
सब से प्यार तुम पाओ,गीत समृद्धि के फिर गाओ !! 
बेसहारा, निर्धन और अपाहिज के बनो सबल, 
 सब करें गर्व,नागरिक ऐसे नेक बनो अव्वल !!

मातृ भूमि व् भाषा है एकता का बंधनवार, 
देश है तो हम हैं ये नारा ही हमारा है सार!! 
सुरमे  देश पर हंसते  हुए कुर्बान कई हजार, 
जबतक भारत की जयकार,तब तक हम राजकुमार !!!! 
 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

61498

+

Visitors