ईट भटठा मालिको को मंदी का शिकार होना मजबूरी

Loading

पठानकोट ;  23 अप्रैल ; कंवल रंधावा/अल्फ़ा न्यूज इंडिया  ;——-पिछले लम्बे समय से ईट भटठा मालिको को मंदी का शिकार होना पड़ रहा है। जिसका मुख्य कारण आस पास के क्षेत्रों में बाहरी क्षेत्रों से आकर लग रहे ईटों के गैरकानूनी डंप ईट भट्ठा मालिकों को बेहद नुक्सान पहुंचा रहे है। जिसे बंद करवाने के लिए ईट भटठा मालिकों ने जिला प्रशासन, तीनों हलको के विधायकों के आगे अपनी आवाज बुलंद की है। इसे लेकर उन्होंने जिलाधीश तथा हलका पठानकोट के विधायक अमित विज व भोआ के विधायक जोगेंद्र पाल को ज्ञापन भी दिया है। इस बात का खुलासा सभी ईट भटठा मालिकों द्वारा की गई एक संयुक्त रूप से बैठक के दौरान किया।  कहा कि बडे दुख की बात है कि पिछले पांच सालों से दूसरे क्षेत्रों से गैरकानूनी ढंग से ईटों के डंप हरियाल, बगार खडड, चक्की पडाव व आस पास के एरिया में लग रहे है। जिससे जिला पठानकोट की ईट भटठा इंडस्ट्री तबाह होकर रह गई है।परंतु अफसोस की इस संदभü में कई बार जिला प्रशासन से इस गैरकानूनी ढंग से लग रहे ईटों के डंप को बंद करवाने के लिए गुहार लगा चुके है, लेकिन अभी तक इस समस्या का समाधान नहीं किया जा सका है। उन्होंने कहा कि जिला पठानकोट में करीब 60 ईट भटठा है जिस पर हजारों परिवार अपनी रोजी रोटी चला रहे है। इनकी रोजी रोटी पर लात मारते हुए बाहरी क्षेत्रों से ईटें जहां पहुंच रही है, जो तकरीबन रोजाना 15 लाख ईटों की गैरकानूनी ढंग से बिक्री कर रहे है। जिसे न तो कोई टैक्स लिया जाता है और न ही इसे जहां से हटाया जाता है। इस दौरान उन्होंने जिला प्रशासन से मांग रखी है कि जिस प्रकार क्रशर इंडस्ट्री को माईनिंग माफिया से मुक्त करवाने के लिए डिपाटüमेंट ने एक संयुक्त टीम का गठन जहां क्रशर इंडस्ट्री को माइनिंग माफिया से मुक्ति दिलाई है। ठीक उसी प्रकार भटठों इंडस्ट्री को बचाने के लिए टीम का गठन कर, डंप माफिया से मुक्ति दिलाई जाये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

63560

+

Visitors