ग्रह-नक्षत्रचंडीगढ़धर्मसभी समाचारसाहित्य-संस्कार

पिता प्रथम तो भाई दूजे दर्जे का है अधिकारी ; अवि भसीन

पिता प्रथम तो भाई दूजे दर्जे का है अधिकारी ; अवि भसीन 

 

चंडीगढ़ ; 8 नवम्बर ; आरके शर्मा विक्रमा ;——- कार्तिक मास  का  सब महीनों में चैत्र  महीने की भांति उत्तम और पूज्य स्थान है ! इस महीने मे बेपरवाही ही से भी रामनाम सुमिरण करने से भी मुक्ति मिलती  है ! ये धर्मवत विचार आज पंडित रामकृष्ण शर्मा धर्मप्रज्ञ ने पंचकूला के सेक्टर  11 स्थित पीपलवाली माता कलावती समाज सेविका द्वारा स्थापित प्राचीन शिवमंदिर कम्युनिटी सेंटर में एकत्रित हुए आस्थावानों के सार्थ सांझे किये !  पंडित रामकृष्ण शर्मा धर्मप्रज्ञ  ने बताया कि धर्म कभी आपस में ईर्ष्या डाह द्वेष आदि नहीं सिखाता है ! ये  समानता इंसानियत व् भाईचारे की पुख्ता नींव को अधिक मजबूती देता है ! कार्तिक मास मपर्व व्रत और त्यौहारों की धूम हमारी संस्कृति के विविध दर्शन हैं ! चंडीगढ़ इंडस्ट्रीज प्रकोष्ठ के युवा प्रधान अविभसीन ने भी दिवाली के बाद के पर्वों गोवर्धन पूजा अन्नकूट भंडारे सहित शुक्रवार के  भैय्यादूज पर्व की सभी की हार्दिक मंगल कामनाएं देते हए अपने विचार सांझे किये और कहा कि परमपिता ही पिता है और प्रथमदर्जे के अधिकारी हैं ! वहीँ इंसान के जीवन में पिता के बाद भैय्या का  दूजा दर्जा है ! तभी भाई के कंधे पर पिता के बाद तमाम जिम्मेवारी और जवाबदेही धरी जाती हैं ! इसी के संदर्भ में भैय्यादूज मनाने की पुरातन और ऐतिहासिक महत्व लिए भैयादूज मनाई जाती है ! 

 

       काफिला दी फाउंडेशन ऑफ़ इंडिया की संचालिका और संस्थापिका पूर्व प्रिंसिपल विक्रमजीत कौर बब्बल ने कहा कि भैय्या की अहमियत आधुनिक परम्परा एकल संतान ने तोड़ दी है ! आज हर घर में एक ही संतान होने केचलते वो दिन दूर नहिं जब हमारे पास बताने के लिए ये भी होगा ही नहीं कि भाई भी कोई दर्जा या रिश्ता होता है ! प्रिंसिपल आर्टिस्ट मोनिका शर्मा आभा ने अपने विचार व्यक्त करते हए भैयादूज की अहमियत और आज के संदर्भ में भैयादूज की महत्ता पर  व्याख्या करते हुए इसके विविध पहलुओं पर प्रकाश डाला ! योगी आयुर्वेद के संचालक और मरहूम हरभजन सिंह  योगी के सुपुत्र  सुखजिंदर सिंह योगी ने आज अन्नकूट भण्डारे की सेवा इसी माह के जेठा रविवार पौणाहारी के भंडारे के नामित घोषित की है ! योगी केमुताबिकभण्डरेलनगर भी हमारी सनातनी परम्परा और सिख भाईचारे की शमूलियत के दर्शन हैं !   
 
Advertisement
Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close