अंतरराष्ट्रीयउत्तरी भारतचंडीगढ़झारखंडधर्मनई दिल्लीपंजाबराष्ट्रीयशिक्षासभी समाचारसाहित्य-संस्कारहरियाणा

बेटियां पराया धन हैं तभी तो दरिंदे नोचते हैं दबोचते हैं कर देते कत्ल

बेटियां  पराया धन हैं  तभी तो दरिंदे नोचते हैं दबोचते हैं कर देते कत्ल 

चंडीगढ़ ; 6 दिसम्बर ;  आरके शर्मा विक्रमा ;—- स्त्री धन है तो जहाँ है भगवान है खुदा है गुरु हैं गॉड हैं ! नारी की महिमा गरिमा इतनी बखानी है कि भगवान ने खुद माँ की कोख से जन्म लेने के लिए धरती पर अवतार स्वीकारे हैं ! और इसी धरा पर आज नारी की अस्मिता को नोचने वाले दूसरे तो बाद में खड़े हैं पहलेतोअपने की खून के रिश्ते तार तार करने पर अड़े हैं ! ये संकीर्ण व् विकृत मानसिकता अपने विलुप्तप्राय संस्कारों की इहलीला की जलती चिता  का भी प्रमाण बन रहे हैं !
                  हिमाचल केजिला कांगड़ा के पपरोला के समीपवर्ती ग्राम में सैनिक बाप द्वारा नाबालिगा बेटी से हर बार छुट्टी पर आने पर दरिंदगी से जबरजिन्नाह करने की खबर से देवभूमि शर्मसार हुई है ! बेटियों से कदावर नेताओं और अन्यों द्वारा सामूहिक बलात्कारों की घटनाओं पर खुद सुप्रीमकोर्ट ने खिन्नता जाहिर करते हुए कहा कि  लेफ्ट राइट सेंटर कहाँ नहीं हो रहे हैं बलात्कार ! आश्रय ग्रहों में बलात्कारों की शिकार बच्चियां हुई हैं और ये सिलसिला थम गया इसकी भी कोई पुष्ट खबर नहीं है ! नैशनलकराऐं रिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़ों की बानगी देखें तो शायद ही कोई आँख हो जो नम न हो और शायद ही कोई सर हो जो शर्म से न झुके !  
Advertisement
Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close