उत्तरी भारतचंडीगढ़सभी समाचारहरियाणा

पंचायती भूमि और शमशान घाटों में भी पेड़ लगाने चाहिए:स्पीकर कंवर पाल

हरियाणा /यमुनानगर : 16 फरवरी  (राकेश शर्मा/अल्फ़ा न्यूज इंडिया); —वन विभाग हरियाणा द्वारा हर्बल पार्क चूहड़पुर में आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय स्तर की कृषि वानिकी कार्यशाला के समापन अवसर पर बोलते हुए हरियाणा विधानसभा के स्पीकर कंवर पाल ने कहा कि इस राष्ट्रीय स्तर की कृषि वानिकी कार्यशाला में सारगर्भित चर्चा हुई है। उन्होंने कहा कि वन विभाग जनता की भलाई के पौधे लगाता है। यदि हमें पर्यावरण को सुरक्षित रखना है तो हमें अधिक से अधिक संख्या में पौधे लगाने होंगे ताकि भविष्य में होने वाली चुनौतियों से बचा जा सके। उन्होंने कहा कि हमें पंचायती भूमि और शमशान घाटों में भी पेड़ लगाने चाहिए। 
हरियाणा विधानसभा के स्पीकर ने कहा कि कृषि वानिकी को बढ़ावा देने में वन विभाग की हमेशा अच्छी भूमिका रही है। उन्होंने कहा कि पेड़-पौधे प्रदूषण को कम करते हैं। उन्होंने कहा कि कृषि वानिकी विषय पर इस कार्यशाला में कृषि वानिकी की वर्तमान स्थिति मुद्दों एवं चुनौतियों पर गहन मंथन करने से न केवल पर्यावरण की रक्षा के लिए कदम उठाए जाएंगे बल्कि किसानों और उद्योगों के फायदों के लिए भी नियम बनाने में सहायता मिलेगी। उन्होंने कहा कि कृषि वानिकी में समस्त समाज की भागीदारी होनी चाहिए। 
कंवर पाल ने कहा कि हमारे पूर्वजों ने वृक्षों के महत्व को धर्म के साथ जोड़ा था। उन्होंने कहा कि धर्म नैतिकता है और नैतिकता सबका कल्याण करती है। उन्होंने कहा कि हमें ऐसे पेड़ लगाने चाहिए जिससे न केवल लोगों को लाभ हो बल्कि पक्षियों को आश्रय मिले और सभी को खाने के लिए फल मिले। उन्होंने कहा कि खाद भूमि की खुराक होती है और हमें अपने खेतों में जैविक खादों का प्रयोग करना होगा ताकि धरती को सुरक्षित रखा जा सके।  

 इसके साथ-साथ हमें अधिक मात्रा में पेड़ लगाने होंगे ताकि हरियाली कायम रहे। 

  हरियाणा के वन मंत्री राव नरबीर सिंह ने कार्यशाला के समापन समारोह में बोलते हुए कहा कि यमुनानगर जिले में सबसे ज्यादा हरियाली है और इस कार्यशाला का निकट भविष्य में सबसे ज्यादा फायदा किसानों व आढ़तियों को होगा और किसान कृषि वानिकी को बड़े पैमाने पर अपनाएंगे। उन्होंने कहा कि यदि हम प्रचूर मात्रा में पेड नहीं लगाएगें तो इससे पर्यावरण को भारी नुकसान होगा और हमें भविष्य में सांस लेना भी मुश्किल हो जाएगा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल की सोच हमेशा लोगों के हित में फैसले लेने की है और वे हर क्षेत्र में हर वर्ग के हित में कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस कृषि वानिकी कार्यशाला में दो दिनों तक कृषि वानिकी को बढ़ावा देने के लिए सरकार द्वारा स्पष्ट नीति निर्धारण करना, खेतों व वृक्षों की कटाई व उनको कही भी खरीदने व बेचने में कठिनाई दूर करना, लकड़ मंडी की स्थापना तथा संचालन करना, कृषि वानिकी के लिए क्षेत्रवार उचित प्रजातियों का चयन, कृषि वानिकी उत्पादन की कीमतों का निर्धारण तथा मूल्यभाव निश्चित करना तथा न्यूनतम समर्थक मूल्य निर्धारण करना, लकड़ी के क्रय-विक्रय पर विभिन्न प्रकार के करों में सरलीकरण करना, विदेश से आने वाली लकड़ी को नियंत्रण करना जिससे कि स्थानीय लोगों को अपनी उपज का सही मूल्य मिले, काष्ठ आधारित उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए स्थानीय नियम कानूनों का सरलीकरण करना, कृषि वानिकी को बढ़ावा देने के लिए राष्ट्र एवं राज्य स्तरीय योजनाओं का संचालन व सुनिश्चिता के लिए आवश्यक बजट का प्रावधान करना ताकि किसानों को उसका लाभ मिल सके तथा राष्ट्रीय कृषि वानिकी नीति 2014 के प्रावधानों को मध्यनजर रखते हुए राज्य कृषि वानिकी नीति निर्धारण कर उसका संचालन करना आदि विषयों पर गहन मंथन हुआ है।  

हरियाणा के मुख्य संसदीय सचिव श्याम सिंह राणा ने कहा कि कृषि वानिकी में सफेदा व पापूलर की भूमिका के साथ-साथ अन्य पेड़ों की भी महत्ता है। उन्होंने कहा कि यमुनानगर में प्लाईवुड उद्योग अधिक है। उन्होंने कहा कि किसानों, आढ़तियों और उद्योगों में बराबर रूप से तालमेल होना चाहिए। उन्होंने कहा कि पर्यावरण की रक्षा के लिए जैविक खेती करनी बहुत जरूरी है और सरकार द्वारा प्रयास किए जा रहे है कि किसानों को पापूलर के अच्छे दाम मिलें। उन्होंने कहा कि इस कार्यशाला में विचार मंथन होने का शीघ्र ही अच्छा नतीजा निकलेगा। 
कृषि वानिकी कार्यशाला के समापन समारोह में हरियाणा की प्रधान मुख्य वन संरक्षक डा. अमरिन्दर कौर ने कार्यशाला में पहुंचे गणमान्य व्यक्तियों, विभिन्न राज्यों के वन अधिकारियों, कृषि वानिकी के विशेषज्ञों व अन्य अधिकारियों का स्वागत किया  और कहा कि जलवायु परिवर्तन हो रहा है और ऐसी अवस्था में ज्यादा से ज्यादा पेड लगाने जरूरी हैं व कृषि वानिकी को अपनाकर ही पर्यावरण की रक्षा की जा सकती है।    

इस अवसर पर सढौरा के विधायक बलवंत सिंह, उपायुक्त रोहतास सिंह खरब, अतिरिक्त उपायुक्त डा.शालीन, पुलिस अधीक्षक राजेश कालिया, जिला परिषद की अध्यक्षा रेणू बाला, चेयरमैंन रामेश्वर चौहान, भाजपा नेता गीता राम, ऋषि पाल ठेकेदार सहित अन्य विभागों के अधिकारी व वन विभाग के अधिकारी भी उपस्थित थे।
Advertisement
Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close