ग्रह-नक्षत्रधर्म

हर शब्द इक मार्गदर्शक के रूप में विद्यमान

चंडीगढ़ :— 17 सितंबर अल्फा न्यूज इंडिया डेस्क:—–*👌🏻कोई-कोई  मैसेज वाकई  कमाल होता है*👌🏻
आप स्वयं पढ़िये….

कितना सत्य है ना…..?
💐💐भक्ति जब भोजन में प्रवेश करती है,
भोजन ” प्रसाद “बन जाता है.।
💐💐
भक्ति जब भूख में प्रवेश करती है,
भूख ” व्रत ” बन  जाती है.।
💐💐
भक्ति जब पानी में प्रवेश करती है,
पानी ” चरणामृत ” बन जाता है.।
💐💐
भक्ति जब सफर में प्रवेश करती है,
सफर ” तीर्थयात्रा ” बन जाता है.।
🍁🍁
भक्ति जब संगीत में प्रवेश करती है,
संगीत ” कीर्तन ” बन जाता है.।
🍁🍁
भक्ति जब घर में प्रवेश करती है,
घर ” मन्दिर ” बन जाता है.।
🌸🌸
भक्ति जब कार्य में प्रवेश करती है,
कार्य ” कर्म ” बन जाता है.।
🌸🌸
भक्ति जब क्रिया में प्रवेश करती है,
क्रिया “सेवा ” बन जाती है.। और…
🌻🌻
भक्ति जब व्यक्ति में प्रवेश करती है,
व्यक्ति ” मानव ” बन जाता है..।
*🙏🏻🌹🌺🌹🙏🏻*साभार व्हाट्सएप।।।

Advertisement
Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close