उत्तर प्रदेशधर्मराष्ट्रीयसाहित्य-संस्कार

 

 मथुरा : 16 जुलाई : आरके शर्मा विक्रमा प्रस्तुति :—गोवर्धन मुड़िया पूर्णिमा का मुख्य पर्व आज भक्ति में डूबे गिरिराज धाम में हर ओर गिरिराज महाराज के जयकारों के उद्घोषों के बीच लाखों ही नहीं एक करोड़ से अधिक श्रद्धालुओं ने परिक्रमा लगा चुके है। अभी रेला परिक्रमा में बढ़ रहा है। परिक्रमा में चहुंओर भीड़ का सैलाब उमड रहा है। 

यहां सम्पूर्ण ब्रजमंडल में साधू संतो मठ,आश्रमों पर गुरु के सम्मान में सिर मुंडवाए मुड़िया संत ढोलक ढप और झाझ मजीरे की धुन पर नाच रहे थे. मुड़िया संतों का जगह-जगह पुष्प वर्षा से स्वागत किया गया. गोबरधन चकलेश्वर स्थित राधा श्यामसुंदर मंदिर से मुड़िया शोभायात्रा महंत राम कृष्ण दास महाराज के निर्देशन में निकाली गई. मुख्य मार्गों होते हुए संपन्न हुई। मुड़िया संत हरि नाम संकीर्तन के साथ नृत्य करते हुए निकले तो उनके आगे हर शिर नतमस्तक हो गया. मान्यता है कि गोवर्धन में मानसी गंगा स्थित चकलेश्वर महादेव मंदिर में बंगाल के संत सनातन गोस्वामी रहते थे. वह हमेशा सिर का मुंडन कराकर भगवान की भक्ति में लीन रहते थे. इसलिए लोग उन्हें मुड़िया बाबा कहते थे. गुरु पूर्णिमा के दिन उन्होंने ब्रह्मलोक की प्राप्ति की थी. तभी से उनके शिष्य अपना सिर का मुंडन कराकर मानसिंह गंगा की परिक्रमा करते हैं. जो परंपरा 500 वर्षों से चली आ रही है। 

यहां मेला क्षेत्र लघु भारत का रूप नजर आ रहा है। अभी भी देश के ज्यादातर प्रांतों के भक्त परिक्रमा देने के लिए यहां पहुंच। परिक्रमा मार्ग नरमाला में तब्दील हुआ है।

भीषण गर्मी में आस्था के आगे श्रद्धालुओं के कदम एक पल के भी नहीं ठहर रहे। अव्यवस्थाएं हैं, लेकिन भक्ति के जोश में श्रद्धालुओं को कहीं कुछ नजर नहीं आ रहा। 

जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन ने सुरक्षा के कड़े इंतजाम और पुख्ता कर दिए। श्रद्धालु गिरिराज जी की परिक्रमा करने के बाद मानसी गंगा के फुव्वारों के नीचे स्नान कर रहे हैं। गिरिराज महाराज पर दूध चढ़ाया जा रहा है। मुड़िया मेले में टनों दूध चढ़ चुका है। सेवा करने वाले भक्त पीछे नहीं है। जगह-जगह भंडारे व सेवा शिविरों का आयोजन माहौल को भक्तिमय बना रहे हैं। गोवर्धन के प्रमुख मंदिरों में आधुनिक सजावट की गई है। मानसी गंगा, मुकुट मुखारविंद मंदिर में झिलमिलाती रोशनी और नाव में चल रहे फुव्वारे के अभिनव दर्शन श्रद्धालुओं को अपनी ओर खींच रहे हैं। गिरिराज जी की परिक्रमा के गोवर्धन के अलावा राधाकुंड, आन्यौर, जतीपुरा व पूंछरी में धार्मिक आयोजन किये गये।

गिरिराज जी के भक्त हेलीकॉप्टर से भी गोवर्धन की परिक्रमा कर रहे है। इसमें गिरिराज जी के भक्त सात कोसीय परिक्रमा हैं। राजकीय मुड़िया पूर्णिमा मेला में गिरिराज जी के भक्त सात कोसीय परिक्रमा से ब्रजबासियों और साधुसंतो में केंद्र व् राज्य सरकार के प्रति ख़ुशी का माहौल है।

साभार :–मुहम्मद उमर कुरैशी पीटीसी- मथुरा (उप्र)

Advertisement
Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close