अंतरराष्ट्रीयराष्ट्रीयसाहित्य-संस्कार

 नारी  बेचारी नहीं सशक्तिकरण का सबल सितारा है ; मोनिका शर्मा 

अंतराष्ट्रीय महिला दिवस को महिला सशक्तिकरण दिवस के रूप में मनाया

चंडीगढ़ ; 8 मार्च ; आरके शर्मा विक्रमा ;—- दुनिया भर में आज  अंतराष्ट्रीय महिला दिवस के रूप में मनाया जा रहा है ! भारत में इस वर्ष उक्त दिवस को महिला सशक्तिकरण दिवस के रूप में बड़ी से छोटी इकाई तक मनाया जाना नारी के प्रति पुरुषप्रधान समाज की बदलती सोच का सबल उदाहरण है ! 
चंडीगढ़ में सरकारी और  गैर सरकारी स्तर पर महिला सशक्तिमरण दिवस को धूमधाम से मनाया जा रहा है ! स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया की मुख्य शाखा सेक्टर 17 स्थित में आज बैंक की महिला अधिकारीयों और कर्मचारियों के साथ मिलकर महिला दिवस की धूम देखने को मिली ! आयोजक समूह के एलआर ठाकुर, चीफ  मैनेजर एसबीआई   के मुताबिक हर महिला कर्मी को पंखुड़ियों समेत गुलाब देकर विश  किया गया ! एजीएम अलोक कुमार ने समाज में निस्वार्थभाव से गरीब बेसहारा लाचार बच्चियों के लिए कार्य करने वाली मोनिका शर्मा आभा प्रिंसिपल आर्टिस्ट को उत्कृष्ट कार्यों हेतु सम्मानित किया !  बैंक की महिला अधिकारी परवीन व् रश्मि व् सुदेश अनीता सहित तकरीबन दो दर्जन से अधिक महिला अधिकारियों   और कर्मियों ने संयुक्त रूप से सभागार में एकत्रित होकर कर्मठ कर्तव्य के प्रति समर्पित महिलाओं को एलआर ठाकुर और अधिकारी मिगलानी रविदंर ने बैंक का स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित और प्रेरित किया ! समाज सेविका और शहीदों की विधवाओं व् बेटियों को आर्ट्स एंड हैंडीक्राफ्ट्स का गुर व् गुर सिखाने वाली अदिति कलाकृति की प्रिंसिपल संचालिका मोनिका शर्मा आभा को बैंक का स्मृति चिन्ह और उत्कृष्ट कार्य हेतु प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया ! इस से पूर्व बुड़ैल स्थित एनजीओ समर्थन की स्थानीय इकाई ने भी मोनिका शर्मा सहित चार महिलाओं को सम्मानित किया ! अध्यक्षा आरती राणा के मुताबिक समाज में उदाहरण बनने वाली महिलाओं को समर्थन सोशल वेलफेयर के मंच पर सम्मानित किया गया ! पंजाब की पहली महिला ऑटो चालिका बलविंदर कौर व् बिंदु शर्मा जोकि लवारिश मृत पशुओं का अंतिम संस्कार करती  सहित युवा किन्नर सना मलिक जोकि अनेकों समाजिक विषमताओं  झेलते हुए शिक्षा प्राप्ति के लिए हर किसी से अनाथ होते हुए भी लोहा  ले रही है और चौथी समाजसेविका मोनिका शर्मा है जोकि वतन पर शहीद होने वाले वीरों की विधवाओं और बच्चियों आदि को आर्ट्स और हैंडीक्राफ्ट्स का हुनर निशुल्क सिखाती हैं और उनको अपने पैरों पर खड़ी  होने की काबलियत देती हैं ! स्लम एरिया की बच्चियों के लिए निशुल्क प्रशिक्षण शिविर आयोजित करती हैं !
Advertisement
Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close