चंडीगढ़शिक्षा

मौलिक अधिकार के बावजूद एडमिशन नहीं मिलने पर अधर में लटका बच्चों का भविष्य—- कैलाश चंद जैन

दाखिले से वंचित रह गए स्टूडेंट्स की पढ़ाई जारी रखने की व्यवस्था करें प्रशासन----- देवेंद्र सिंह बबला

*भाजपा नेताओं ने की बच्चों के भविष्य बचाये जाने की अपील*

चंडीगढ़:- 28 अक्टूबर :-आरके विक्रम शर्मा/ राजेश पठानिया +अनिल शारदा प्रस्तुति:—-चंडीगढ़ प्रशासन के शिक्षा विभाग द्वारा 11वीं के लिए दाखिला प्रक्रिया बंद किए जाने के बाद लगभग 5000 स्टूडेंट्स दाखिले से वंचित रह गए हैं जिससे इन स्टूडेंट्स का भविष्य अधर में लटक गया है, इसका संज्ञान लेते हुए भाजपा चंडीगढ़ के प्रदेश उपाध्यक्ष देवेंदर सिंह बबला व प्रदेश प्रवक्ता कैलाश चन्द जैन ने चंडीगढ़ के प्रशासक व शिक्षा विभाग से इन बच्चों को दाखिला दिए जाने की मांग की है।

उक्त मांग करते हुए देवेंद्र सिंह बबला ने कहा है कि शिक्षा प्राप्त करने का अधिकार हर बच्चे को है 11वीं में एडमिशन से वंचित रह गए बच्चों की दाखिले की व्यवस्था प्रशासन द्वारा की जानी चाहिए, जो बच्चे निर्धारित समय में फीस नहीं भर पाने की वजह से दाखिले से वंचित रह गए हैं उनको भी फीस जमा कराने का एक और मौका दिया जाना चाहिए। प्रशासन अगर चाहे तो लेट फीस ले सकता है लेकिन फीस न भर पाने की स्थिति में दाखिला रद्द नहीं किया जाना चाहिए।

इसी प्रकार भाजपा प्रदेश प्रवक्ता कैलाश चंद जैन ने कहा कि भारत सरकार द्वारा देश के प्रत्येक बच्चे को शिक्षा प्राप्त करने का मौलिक अधिकार दिया गया है और शिक्षा देने की जिम्मेदारी सरकार की है इसलिए प्रशासन को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि जो बच्चे आगे शिक्षा के लिए नई कक्षा में दाखिला लेना चाहते हैं उन्हें हर हालत में दाखिला मिले। कोई भी शिक्षा प्राप्त करने से वंचित न रह जाए। बच्चों के पास शिक्षा का अधिकार होने के बावजूद भी इनके भविष्य पर तलवार लटक रही है ।

भाजपा नेताओं ने प्रशासक बनवारीलाल पुरोहित तथा प्रशासन के अधिकारियों से इस मामले में संज्ञान लेकर बच्चों के दाखिले की व्यवस्था करने तथा उनके भविष्य को बचाने की अपील की है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close